दूर कहीं…

Hi everyone, this is my first blog and this is really a new place for me.I am here to start a series of hindi poetry,which i think are self explanatory and takes us to a complete different world,in simple words.I Hope people connected with this language and also people who just love hindi will appreciate my work.Here is the first landmark on start of this journey and it takes you somewhere beyond those mountains.

दूर कहीं उन पहाडों के बीच !!

दूर कहीं उन पहाडों के बीच ।

जिंदगी खुशनुमा है बस आँखों को मीच ।

जहाँ घरौंदे बनाती है चिडिया

और बुनती है वो अपने सपनों की लडीयाँ ।

जहाँ तपते सुरज में ठंढक अजब है ।

कहाँ आ गये हम ये जहाँ तो गजब है ।

अजब है ये लोग,इनके खेल और खिलौने ।

है जेबों में पैसे, फिर भी हम बौने ।

जाने क्यों लगती अलग ये फिज़ा है ।

बातें ये करते हैं सुख और अमन की ।

हमारे यहाँ तो अलग ही जहाँ है ।

है धरती पे नाखुश और बातें गगन की ।

रहते हैं मिलकर न दुरियां इनके बीच ।

हमने तो रखी हैं रेखायें खींच।

दूर कहीं उन पहाडों के बीच ।

जिंदगी खुशनुमा है बस आँखों को मीच ।

है नदीयों का शोर, झर झर से झरने ।

यहाँ जैसे धरती ने पहने हो गहने ।

पंछी ये उडते बडे मनमाने ।

न पिंजडों में चुगते ये महँगे से दाने ।

देखो इन्हे भरोसा बहुत है,

उस पत्थर में इनकी आस्था अदभुत है ।

हमारे यहाँ तो अलग ही  समां है,

ये हस कर है कहते कहाँ ये जहाँ है ?

इन्हे झुठी लगती पहाडों की बातें,

करते हमेशा अकल की ही बातें ।

माना की न हो कुछ उन पहाडों के बीच ।

पर जब तक न मिट जाती ये ऊँच-नीच ।

गायब न हो जाती दुरियां अपने बीच ।

रखते हैं मन में ये तस्वीर खींच कि,

“दूर कहीं उन पहाडों के बीच ,

जिंदगी खुशनुमा है बस आँखों को मीच”  ।।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s